बेटियां (Daughters)

कितनी प्यारी होती है बेटियां, सबकी दुलारी होती है बेटियां, दो घर को जोड़ने वाली होती है बेटियां, अनुशासन को कायम रखने वाली होती है  बेटियां, फिर क्यों बेटियों को मारा जाता है? क्यों मां बाप के ऊपर बेटियों को बोझ समझा जाता है? क्यों पैदा होते ही बेटियां मां-बाप के दुख का कारण बन जाते हैं? जब कितनी प्यारी बेटियां होती है! कितने सारे सवाल बेटियों के दिमाग में चलते हैं कि मैं एक बेटी हूं क्या इसीलिए मेरा मुझे हर काम में रोका टोका जाता है, इससे बात नहीं करनी है, उससे बात नहीं करनी है, यहां नहीं जाना है वहां नहीं जाना है, क्या बेटियों के अंदर कोई सपने नहीं होते हैं क्या बेटियां ऐसे ही आ जाती हैं? क्या मां बेटी को पैदा करते वक्त यह सोचती है कि उसकी आने वाली संतान बेटा होगा या बेटी. बेटा होगा तो बहुत खुशियां मनाई जाती है, वहीं बेटी अगर हो गई तो उसको किसी कूड़े कचरे के डब्बे में फेंक दिया जाता है. क्यों इस हैवानियत को निकाला जाता है अरे उसको भी पैदा करने में उतना ही दर्द होता है जितना बेटे को पैदा करने में दर्द होता है. फिर क्यों उसको फेंक देते हो बेटी तो भगवान का दीया बो रूप है जो दो घरों को जोड़ती है, दो परिवारों को जोड़ती है, हर जगह खुशियां लाती है, आप के संस्कारों को आगे बढ़ाती है, फिर क्यों बेटियों को बोझ समझा जाता है? क्यों बेटी को यह बताया जाता है कि यह तुम्हारा घर नहीं है? कि अपने घर जाना तब कुछ करना क्या मां बाप के ऊपर बेटी का कोई हक नहीं होता? बेटी ने बड़े सपने देखे तो मां-बाप बोल देते हैं कि अपने घर जाना तब वहां सारे सपने पूरा करना. पर जब बेटी शादी होकर अपने घर आती है तब उस घर में उसके सास-ससुर बोलते हैं कि मां-बाप ने क्या यही सिखाया है, अपने घर से कुछ सीख कर नहीं आई, एक बेटी को तो यही नहीं पता कि उसका घर कौन सा है, उसके मां-बाप का घर या उसके सास-ससुर वाला घर? बेटी बहुत प्यारी होती है मत करो उन पर इतना अत्याचार अगर बेटी ही नहीं होगी तो बेटे कहां से पैदा होंगे, यह संसार आगे कैसे बढ़ेगा. एक बेटी ही होती है जो शाम को आते टाइम पानी लेकर आती है अपने पिता के लिए, एक बेटी ही होती है जो पिता थक हार  कर घर आते है तो उससे पूछती है कि बापू खाना लगा दूं, फिर क्यों बेटियों को पैदा करके कचरे के डिब्बे में फेंक देते हैं, अगर आप बेटी का सम्मान नहीं करेंगे तो यह संसार कभी आगे नहीं बढ़ेगा, बेटी जब पैदा ही नहीं होंगी तो यह भी संसार कैसे आगे बढ़ेगा. इसलिए बेटियों से प्यार करो, उनका सम्मान करो, उनके सपनों को भी आगे बढ़ने दो, बेटी बचाओ.
save girl,daughter
save girl child

Post a Comment

नया पेज पुराने